बरकरार है मिश्राम्बू ठंडाई का जादू

गर्मियों में ठंडाई पीने का चलन उत्तर भारत में बहुत है। ठंडाई का अर्थ उसके नाम से समझा जा सकता है। उत्तर भारत में अप्रैल, मई, जून में जब तेज़ लू चल रही होती है और पारा पचास डिग्री छूने को बेताब रहता है और इतनी गर्मी पड़ रही होती है कि किसी पल चैन नहीं आता है तो इस तरह के शरबत उन दिनों तैयार किए गए थे जब एसी और कूलर या फ्रिज नहीं आए थे। तन बदन को अंदर बाहर से ठंडा रखने के लिए प्राकृृतिक रूप से सक्षम और बेहद लाभप्रद ठंडाई जैसे साफ्ट ड्रिंक ही काम आते थे।

आजकल के साफ्ट ड्रिंक से बिल्कुल उलट ठंडाई जैसे साफ्ट ड्रिंक सेहत के लिए वरदान हैं। ठंडाई यूं तो लखनऊ और बनारस में सबसे बेहतरीन तरीके से तैयार की जाती है लेकिन इन शहरों के अलावा भी इसका चलन है। लखनऊ की ठंडाई की रेसीपी मेवों पर टिकी है तो बनारस की ठंडाई की रेसीपी का आधार फल हैं। लखनऊ की ठंडाई को बाजार में अभी तक किसी बड़ी कम्पनी ने नहीं उतारा है लेकिन बनारस की ठंडाई को बाजार मे मिश्राम्बू के नाम से उतार दिया गया और इसने पिछले करीब दस वर्षों में अपनी जगह भी पक्की कर ली है। अब गर्मियां आते ही मिश्राम्बू के आर्डर आने लगते हैं। इसकी लोकप्रियता का आलम ये है कि मार्च से ही इसके आर्डर की सप्लाई करना शुरु करनी पड़ती है। बादाम ठंडाई और इसी तरह दूसरे ड्राई फ्रूट के नाम से बनने वाली इस ठंडाई की विशेषता यह है कि यह शरीर को अंदर से ठंडा रखने और गर्मियों में पसीना बहने, पानी की कमी हो जाने से पैदा हुई कमजोरी को दूर करने की बेहतरीन दवा के रूप में भी इस्तेमाल होता है।

मिश्राम्बू दरअसल कई ड्राई फ्रूट्स को मीठे में तैयार कर प्रस्तुत किया जाने वाला कंन्सन्ट्रेट है जिसे पानी में मिलाकर पिया जाता है। बादाम बेस्ड होने पर बादाम की मात्रा अधिक कर दी जाती है और काजू बेस्ड होने पर आधे से अधिक काजू की मात्रा कर दी जाती है। मिश्राम्बू की स्वीकार्यता इसलिए भी दूसरे स्वास्थवर्धक शरबतों में अधिक है क्यूंकि इसकी क्वालिटी को अभी तक बनाए रखा गया है। यह अकेला ऐसा कन्संन्ट्रेट है जिसे दस साल पहले जिस क्वालिटी और स्वाद के साथ पिया गया था वैसा ही स्वाद और क्वालिटी अभी भी बाकी है। ठंडाई को पीने से पेट में अपच के साथ ही एसिडिटी भी समाप्त हो जाती है। साथ ही इसके अवयव इस प्रकार के हैं कि विटामिन ई की कमी को भी यह दूर कर देता है। इसके अलावा इसका स्वाद और पीने के बाद तक बना रहने वाला इसका अहसास भी मिश्राम्बू को दूसरे तमाम गर्मी के शरबतों से श्रेष्ठ बनाने मे सहायक सिद्ध होता है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close