शराब पिलाई तो हुक्का-पानी बंद

उत्तराखंड के अल्मोड़ा में वर्षो से अवैध शराब की बिक्री व नशे की लत में फंसते युवाओं की दयनीय हालत देख, युवा ग्राम प्रधान ने खुली पंचायत में जो फरमान दिया, वह हर एक ग्राम पंचायतों के लिए मिसाल बन गया। पंचों की मौजूदगी में तय हुआ कि जो भी ग्रामीण गांव में शराब पिलाएगा, या बेचेगा छह माह के लिए उसका हुक्का पानी बंद कर दिया जाएगा। साथ ही 25 हजार रुपये का जर्माना लगेगा सो अलग।

दरअसल, लोअर माल रोड से लगे सैनार गांव में वाइन शॉप तो नहीं है लेकिन वर्षो से यहां दारू अवैध रूप से बेची जा रही। किसी दौर में सैनार गांव के युवा फुटबॉल व एथलीट में अव्वल रहते थे। मगर नशे की गिरफ्त में आने से हाल बदहाल हो चले हैं। अबकी पंचायत चुनाव में नियुक्त प्रधान अर्जुन सिंह ने गुरुवार को खुली बैठक बुलाई। मुख्य मुद्दा गांव में मदिरा की अवैध बिक्री व बर्बाद हो रहे युवाओं से जुड़ा रहा। पंच बुलाए गए। तय हुआ कि गांव में अब शराब न तो कोई बेचेगा ना ही किसी को पिलाई जाएगी। पंचायत में फैसला हुआ कि अगर गोपनीय शिकायत पर कोई शराब बेचता या पिलाते पकड़ा गया तो उसे छह माह के लिए गांव के लिए बाहर कर दिया जाएगा। यानी उसका हुक्का पानी बंद।

ग्राम प्रधान अर्जुन सिंह के इस फरमान से बेशक शराब के सौदागर परेशान हों मगर क्षेत्र में इस फैसले को मिसाल बताया जा रहा। खुली पंचायत में ग्राम विकास पंचायत अधिकारी रमेश राज, बाल विकास की विनीता वर्मा, बिशन सिंह बिष्ट, प्रमोद सिंह बिष्ट, नारायण सिंह बिष्ट जमन सिंह बिष्ट, नीमा कनवाल, काता देवी, सुनीता देवी, विजय कनवाल, रवि बिष्ट आदि मौजूद रहे।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close