शराब के गिलास को ब्लर क्या किया भड़के फरहान अख्तर

फिल्ममेकर और अभिनेता फरहान अख्तर ने केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के कार्य प्रणाली के  को लेकर फिर से अपनी नाराजगी ट्विटर पर शेयर की हैं इस बार किसी बॉलीवुड  फिल्म के लिए नहीं  बल्कि एक हॉलीवुड फिल्म फोर्ड वर्सेस फरारी को लेकर है।

शराब के गिलास ब्लर कराने पर भड़के फरहान अख्तर, लिखा- भारतीय वयस्कों को अपराधी क्यों समझा जाता है

अख्तर ने अपने ट्वीट में लिखा है, “वह दिन दूर नहीं, जब वे थिएटर्स में सिर्फ स्क्रिप्ट पढ़ रहे होंगे। आखिर क्यों भारतीय वयस्कों को ऐसा अपराधी समझा जाता है, जो अपने बारे में यह नहीं सोच सकते कि मेरे लिए क्या सही होगा और क्या गलत।”

यह है  पूरा मामला

दरअसल, एक अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट ने यह दावा किया है कि सीबीएफसी ने फिल्म में दिखाए गए शराब के गिलास और बोतलों को ब्लर करने को कहा है। साथ ही एक डायलॉग ‘son of a bi***’ में इस्तेमाल हुए शब्द bi*** को ब्यूट करने का निर्देश भी दिया है।

शराब के गिलास ब्लर कराने पर भड़के फरहान अख्तर, लिखा- भारतीय वयस्कों को अपराधी क्यों समझा जाता है

रिपोर्ट में एक अनजान स्टूडियो के हवाले से लिखा है, “हम जानते हैं कि हमें बोतलों को ब्लर करना होगा, क्योंकि उनपर ब्रांड का नाम लिखा है और सीबीएफसी इस बात की इजाजत नहीं देता। लेकिन ऐसा पहली बार सुना है कि गिलास को ब्लर करना पड़ेगा। कमेटी कुछ कट्स के साथ प्रिंट वापस भेजने वाली है। ज्यादा कुछ नहीं कर सकते, यह परेशान करने वाला है।” जेम्स मैनगोल्ड के डायरेक्शन में बनी ‘फोर्ड वर्सेस फेरारी’ 15 नवंबर को रिलीज हो रही है।शराब के गिलास ब्लर कराने पर भड़के फरहान अख्तर, लिखा- भारतीय वयस्कों को अपराधी क्यों समझा जाता है

यह पहला मौका नहीं है, जब फरहान अख्तर ने सीबीएफसी पर नाराजगी जाहिर की है। जब बोर्ड ने शाहिद कपूर स्टारर ‘उड़ता पंजाब’ में 99 कट्स लगाए थे, तब भी उन्होंने अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर बात की थी। फरहान ने उस वक्त कहा था, “शक्ति का नशा सबसे खतरनाक होता है।”

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close