रेल कॉलोनियों तक प्यूरीफाइड वाटर मार्च तक

बिहार के सीतामढ़ी में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था के लिए स्टेशनों पर लगाए गए वाटर प्युरिफायर के बाद रेलवे अब अपने कर्मियों के घरों तक इसका विस्तार करने जा रहा है। रेल यात्रियों के साथ रेलवे कॉलोनी में रहने वाले रेलकर्मियों के परिवार के लिए एक यह बड़ी खुशखबरी है। शुद्ध और स्वच्छ प्यूरिफाई किया हुआ पीने का पानी उपलब्ध कराने का प्रयास किया जा रहा है। इसकी खास बात यह कि बोतल बंद पानी और आरओ पसंद करने वाले लोग उसको भूल जाएंगे।

रेल कॉलोनियों तक प्यूरीफाइड वाटर की सुविधा मार्च तक मिल जाने की उममीद है। स्थानीय रेलवे परिक्षेत्र में एक वाटर पंप रूम के अलावा पानी प्यूरिफाई रूम तैयार किया का रहा है। स्वच्छ पेयजालपूर्ति के लिए रेलवे द्वारा 6 सौ फीट पाईप की बोरिग कराई गई है। यह पानी आरओ फिल्टर पानी की गुणवत्ता वाला होगा। उसमें भरपूर मिनरल होंगे। मार्च माह के आखिर तक प्यूरीफाइड वाटर की उपलब्धता सुनिश्चित हो जाएगी। यात्री रेलवे स्टेशन पर मौजूद नल से पूरी तरह शुद्ध और स्वच्छ पानी पी सकेंगे। तैयार किया जा रहा भवन स्थानीय रेलवे स्टेशन की पुरानी पानी टंकी के नजदीक तकरीबन दस लाख की लागत से साढ़े सात फीट लंबा और चार फीट चौड़ा दो भवन का निर्माण एक ही जगह किया जा रहा है।

रेलवे के स्थानीय अभियंता विनय कुमार कार्य ने बताया कि इस निर्माण में गंगा बालू की उन्नत क्वालिटी इस्तेमाल की जा रही है। अभी पम्प सेट रूम तथा पानी प्यूरिफाई रूम का निर्माण कार्य चल रह है। भवन निर्माण के तुरंत बाद पाइपिग का काम पूरा किया जाएगा।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close