यूपी में तय कोटे से ज्यादा बिकी शराब

यूपी सरकार की नई आबकारी नीति किसी जादुई छड़ी से कम नहीं है शुरुआती गड़बड़ियों  के बावजूद प्रदेश में शराब और बीयर की बिक्री में लगातार इज़ाफ़ा हो रहा है।  इसका फायदा सरकारी खजाने को भी मिला है।
नीति लागू होने के बाद देसी शराब वित्तीय वर्ष 2017-18 की तुलना में 2018-19 में 857.25 लाख लीटर ज्यादा बिकी। यह बिक्री सरकार द्वारा तय कोटे (3645.23 लाख लीटर) से 475.73 लाख लीटर अधिक है। इसी तरह की बढ़ोतरी अंग्रेजी शराब और बीयर में भी देखी गयी ।

(देसी शराब की बिक्री लाख लीटर, जबकि अंग्रेजी शराब और बीयर की बिक्री लाख बोतलों में)

              2017-18     2018-19
देसी –     3263.71      4120.92
बीयर –   2940.27      3313.34
अंग्रेजी –  1617.11        2107.63

देसी शराब की बिक्री में लखनऊ जोन सबसे आगे : लखनऊ जोन में 2017-18 में 334.60 लाख लीटर देसी शराब बिकी थी। विभाग ने 2018-19 के लिए यहां 402.63 लाख लीटर कोटा तय किया था, लेकिन बिक्री 452.40 लाख लीटर पहुंच गई। इसके बाद दूसरे नंबर पर कानपुर जोन रहा। यहां 2017-18 में 335.14 लाख लीटर शराब बिकी थी। 2018-19 के लिए यहां 366.21 लाख लीटर बिक्री का कोटा था, जबकि बिक्री 424.22 लाख लीटर हुई। देसी शराब की बिक्री में मेरठ जोन पीछे रहा। यहां 2017-18 में 400.15 लाख लीटर देशी बिकी थी। सरकार ने 2018-19 के लिए यहां 433.42 लाख लीटर का कोटा रखा था, लेकिन बिक्री महज 398.19 लाख लीटर ही रही।

अंग्रेजी शराब और बीयर की बिक्री में मेरठ जोन सबसे आगे
आबकारी विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, अंग्रेजी शराब और बीयर की बिक्री में मेरठ जोन सबसे आगे रहा। जोन के जिलों में जहां 2017-18 में 214.21 लाख बोतल अंग्रेजी शराब बिकी थी, वहीं 2018-19 में 292.56 लाख बोतल शराब की बिक्री हुई। इसी तरह 2017-18 में जोन में 462.50 लाख बोतल बीयर बिकी थी। वहीं 2018-19 में बिक्री 549.45 लाख बोतल पहुंच गई। दूसरे नंबर पर लखनऊ जोन रहा। यहां 2017-18 में जहां 202.31 लाख बोतल अंग्रेजी शराब बिकी, वहीं 2018-19 में 250.28 लाख बोतलें बिकीं। बीयर की बिक्री यहां 375.52 लाख से बढ़ कर 412.81 लाख बोतल पहुंच गई। अंग्रेजी शराब और बीयर की बिक्री में तीसरे नंबर पर आगरा जोन और चौथे नंबर पर वाराणसी जोन रहा।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close