बीते महीने पंजाब में कम बिकी शराब

केंद्र सरकार से शराब बिक्री की इजाजत मिलने के बाद कई राज्यों में शराब बिकनी शुरू हो गई थी। केंद्र की गाइडलाइन जारी होने के बाद पंजाब में भी 8 मई को दुकानें खोल दी गई थीं। एक महीने बीतने के बाद अब शराब बिक्री का आंकड़ा भी सामने आ गया है।

राज्य में 8 मई से लेकर 8 जून तक 700 करोड़ रुपए की शराब बिकी। पहले सरकार ने ऑनलाइन शराब बिक्री का फैसला लिया था, लेकिन शराब ठेकेदार इससे सहमत नहीं हुए और कई मीटिंग के बाद 8 मई को ठेके खोले दिए गए थे। पंजाब की कुल आबादी तीन करोड़ है।

ज्यादा बिक्री ग्रामीण इलाकों में 

शराब की ज्यादातर बिक्री ग्रामीण इलाकों में हुई। शहरी इलाकों में बिक्री कम रही। सबसे ज्यादा असर लुधियाना, फतेहगढ़ साहिब, मंडी गोबिंदगढ़, अमृतसर फोकल प्वॉइंट पर दिखा। यहां शराब की बिक्री पहले की मुकाबले में कम रही। सरकार को इस महीने अनुमानित 15% से 17% रेवेन्यू शराब से कम मिला है।

हर महीने सरकार को लगभग 500 करोड़ का रेवेन्यू शराब से मिलता है, इस हिसाब से इस महीने लगभग 430 करोड़ का रेवेन्यू पंजाब के जिलों के ठेकों से सरकार को मिलेगा। शराब बिक्री के मामले में लुधियाना सबसे आगे है और तरनतारन में शराब की खपत सबसे कम है।

loading...
Close
Close