अब इस प्रदेश के धार्मिक क्षेत्रों में भी खोल सकेंगे रिसोर्ट बार

मध्यप्रदेश सरकार ने अब धार्मिक क्षेत्रों में भी रिसोर्ट बार खोलने की छूट दे दी है। इसके तहत यहां शराब बेचने और पीने की छूट रहेगी। इस संबंध में नियमों में संशोधन करते हुए वाणिज्यिक कर विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है। इस छूट के पीछे तर्क दिया है कि इससे यहां चोरी से शराब बेचने पर रोक लगेगी। सरकार को राजस्व हानि भी नहीं होगी। जबकि इसके पहले धार्मिक और पवित्र नगरों में शराब पूरी तरह प्रतिबंधित थी।

पर्यटन के नाम धार्मिक क्षेत्रों में दे दी रिसोर्ट बार खोलने की अनुमति

भाजपा सरकार ने शराब की दुकानों पर लगाम लगाते हुए धार्मिक और पवित्र नगरों में मांस और मदिरा पर पूरी तरह से रोक लगाई थी। इसके तहत यहां इस तरह की गतिविधियां करने वालों पर दण्ड का प्रावधान भी है। अब विभाग के अफसरों ने यहां भी शराब बेचने की छूट दे दी है। इनमें धार्मिक नगरी चित्रकूट, मैहर शामिल है। यही नहीं रामराजा के क्षेत्र ओरछा में भी बार लायसेंस के लिए हरीझंडी दे दी है। ओरछा को हैरिटेज पर्यटन क्षेत्र की आड़ में यह छूट दी है।

हैरीटेज पर्यटन क्षेत्र सांची, भीम बैठका, खजुराहो, माण्डू, ओरछा
धार्मिक पर्यटन क्षेत्र मैहर, चित्रकूट
प्राकृतिक पर्यटन क्षेत्र पचमढ़ी, तामिया, पातालकोट, उदयगिरी
जल पयर्टन वाले क्षेत्र गांधी सागर (मंदसौर), तवा बांध (होशंगाबाद), बाणसागर बांध (रीवा), मणीखेड़ा, चांदपाठा बांध (शिवपुरी), गंगउ बांध (पन्ना), मान बांध (धार), जोबट फाटा बांध (अलीराजपुर), गोविंदगढ़ जलाशय (रीवा), माचागोरा बांध (छिंदवाड़ा), सॉपना बांध (बैतूल), धोलाबड जलाशय (रतलाम)

वाणिज्यिक विभाग ने धार्मिक, हैरिटेज के अलावा पर्यटन विभाग द्वारा जल पर्यटन के लिए निर्धारित बांध, जलाशयों में बने रिसोर्ट में बार खोलने की अनुमति दी है। इसके तहत यहां एफएल थ्री-ए लायसेंस जारी किए जाएंगे। इसके तहत रिसोर्ट बार संचालक निर्धारित फीस देकर बार खोल सकेंगे। ग्राहकों को शराब परोसने की सुविधा भी यहां होगी।

चीयर्स डेस्क 

 

loading...
Close
Close